महाराष्ट्र में सियासी हलचल तेज, सचिन वझे के केस को लेकर मुख्यमंत्री ठाकरे ने तीनों दलों के बड़े मंत्रियो की बैठक बुलाई, बड़े पुलिस अधिकारियों के ट्रांसफर की अटकलें

    महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने आधिकारिक आवास ‘वर्षा’ बंगले पर तीनो दलों के बड़े मंत्रियों की बैठक बुलाई है। इस बैठक में CM ठाकरे अम्बानी के एंटीलिया केस में गिरफ्तार सचिन वझे को लेकर सभी प्रमुख मंत्रियों से बातचीत कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक, CM ठाकरे के साथ इस बैठक में डिप्टी CM अजित पवार, मंत्री एकनाथ शिंदे, बालासाहब थोराट, अनिल परब और जयंत पाटिल भी मौजूद हैं। सूत्रों के मुताबिक, सरकार कुछ बड़े पुलिस अधिकारियों का तबादला कर सकती है और साथ ही इस बैठक के बाद मंत्रिमंडल में फेरबदल हो सकता है।

    शरद पवार के मिलने के बाद बुलाई बैठक
    बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत, मनसुख हिरेन, संतो की हत्या, टिक टॉक स्टार पूजा चव्हाण की मौत का मामला और सचिन वझे की गिरफ्तारी के बाद से सरकार पर भाजपा लगातार सवाल उठा रही है सरकार भाजपा के लगातार विरोध से बैकफुट पर है। इसलिए शरद पवार ने सोमवार को उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी। एक घंटे चली इस मुलाकात के बाद माना जा रहा है कि पवार के कहने पर ही मंगलवार को उद्धव ने मंत्रियों की यह बैठक बुलाई है।

    राम कदम ने उठाए कई सवाल
    इस मामले में भाजपा नेता राम कदम ने मंगलवार को सोशल मीडिया के माध्यम से कई सवाल उठाएं हैं। कदम ने सवाल उठाते हुए कहा- एक साधारण API जैसा अफसर इतना बड़ा षड्यंत्र क्या अकेला कर सकता है? महाराष्ट्र में न साधु-संत सुरक्षित हैं, न ही अंबानी जैसे उद्योगपति। क्या जल्द ही होने वाले BMC चुनाव के लिए अंबानी जैसे उद्योगपति को डराकर धन जुटाना किसी का मकसद था?
    हमारा सवाल है शिवसेना और उनके साथी वझे की खुलकर वकालत करते हुए उसका बचाव क्यों कर रहे हैं?
    क्या संगीन आरोप वाले व्यक्ति को बचाना उचित है?