जाम से मुक्ति दिलाने के लिए सांसद मनोज तिवारी ने नार्थ-ईस्ट डीसीपी को लिखा पत्र, किसान आंदोलन से आमजन परेशान

    नई दिल्ली: उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी ने प्रशासन को पत्र लिखकर वजीराबाद रोड सोनिया विहार, खजूरी पुस्ता रोड पर बढ़ते वाहनों के दबाव और घंटों के जाम से मुक्ति दिलाने की मांग की है। सांसद मनोज तिवारी ने उत्तर पूर्वी जिला के डीसीपी संजय सेन जिला सहायक आयुक्त यातायात पुलिस और पूर्वी दिल्ली नगर निगम के शाहदरा उत्तरी क्षेत्र के उपायुक्त को पत्र लिखा है।

    पत्र में सांसद मनोज तिवारी ने सिंधु बॉर्डर पर तथाकथित किसानों के आंदोलन के नाम पर आवाजाही रुकने के बाद हरियाणा पंजाब चंडीगढ़ और हिमाचल प्रदेश से दिल्ली आने जाने वाले वाहनों का दबाव इन मार्गो पर बढ़ने से जाम लगने की बात कही है।

    सांसद तिवारी ने इस पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि जाम से न सिर्फ क्षेत्र के लाखों लोगों को आवागमन में भारी असुविधा हो रही है। बल्कि वजीराबाद रोड के दोनों सर्विस रोड खजूरी चौक भजनपुरा चौक खजूरी पुस्ता रोड नानकसर पुस्ता रोड पर अतिक्रमण के कारण आवागमन पर हो रही बाधित हो रहा है।

    आपको बता दे किसान आंदोलन से लोगो का रोजगार छीन गया हैं। बॉडर के आस-पास कंपनिया बंद हो गई है। कंपनियों में माल की आवाजाही ना होने से कंपनियों के ताले लटके पड़े हैं। लेकिन ना तो प्रदर्शनकारी मानने को तैयार हैं और ना ही सरकार। दोनो अपनी ज़िद्द पर अड़े हुए हैं। किसान आंदोलन से आम जनता को परेशानी हो रही हैं। लोग जाम की वजह से ऑफिस जाने में लेट हो जाते हैं। और वही किसान नेता राकेश टिकैत बंगाल में चुनावी रैलियां कर रहा हैं। जिस प्रकार प्रदर्शनकारी किसान चुनावी रैलियां कर रहे हैं लगता नहीं ये किसान आंदोलन हैं यहाँ पर अब किसानो के नाम पर राजनैतिक रोटियां सेंकी जा रही हैं।