मुख्यमंत्री खट्टर ने कहा हरियाणा में जन्म लेने वाला हर बच्चा 12.91 लाख रु. की प्रॉपर्टी का मालिक, बजट 1,55,645.45 करोड़ रुपए का पेश किया

    नई दिल्ली : हरियाणा प्रदेश में वर्ष 2021-22 का बजट पेश होने के बाद भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार को विपक्ष ने कर्ज को लेकर सरकार को घेर लिया हैं। कांग्रेस नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा समेत कई विधायकों ने कहा है कि आज हरियाणा प्रदेश पर कर्ज की स्थिति को देखा जाए तो यहां जन्म लेने वाला हर बच्चा अपने सिर पर एक लाख का कर्ज लेकर आता है।

    इस पर सीएम खट्टर ने जवाब देते हुए कहा यदि आप कहते हैं कि एक लाख का कर्ज बच्चे-बच्चे पर है तो यह भी जान लें कि आज हमारी प्रदेश की जो प्रॉपर्टी की वेल्यू एसेट है उसके अनुसार यहां जन्म लेने वाला बच्चा 12.91 लाख रु. का मालिक भी है। मैं यह नहीं कहता ही वह मालिक बन ही गया। लेकिन जिस प्रकार आप कर्ज बता रहे हो, उसी के अनुसार मैं यह बात कह रहा हूं। बता दे इस वक्त प्रदेश पर 1 लाख 99 हजार करोड़ रु. का कर्ज है। जबकि बजट 1,55,645.45 करोड़ रुपए का पेश किया गया है।

    हमारे समय 60 हजार करोड़ का कर्ज था- हुड़्डा
    कांग्रेस नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा ने अपने कार्यकाल का जिक्र करते हुए कहा हमारे वक्त साल 2013-14 में प्रदेश पर 60 हजार करोड़ रुपए का कर्ज था। आपने इतना कर्ज कैसे ले लिया। आप कर्ज लेकर घी पीने का काम कर रहे हैं। आज नहीं संभले तो आगे बहुत मुश्किल होगी। इसलिए अभी भी समय है। कर्ज को ज्यादा न बढ़ाया जाए।

    आपने 96 हजार करोड़ का कर्ज छोड़ा था-खट्टर
    मुख्यमंत्री खट्टर ने कहा मार्च 2015 में पेश बजट में उदय का 26 हजार करोड़ रुपए का कर्ज सरकार ने अपने ऊपर ले लिया था। क्योंकि बिजली कंपनियां घाटे में थीं। यदि कर्ज नहीं लेते तो कंपनियों पर कर्ज आज 50 हजार करोड़ रुपए होता। इसकी जिम्मेदारी आपकी सरकार है। यह कर्ज आपके हिस्से में जोड़ें तो आपने प्रदेश पर 96 हजार करोड़ रुपए का कर्ज छोड़ा था।