दो बैंकों के निजीकरण के विरोध में बैंक कर्मचारी आज से 2 दिन की हड़ताल पर, प्रमुख प्राइवेट बैंक खुले रहेंगे

    नई दिल्ली : दो पब्लिक सेक्टर के बैंकों के निजीकरण के विरोध में बैंक कर्मचारी 15 और 16 मार्च हड़ताल पर हैं। इससे बैंक शाखाओं में जमा, निकासी, चेक क्लियरैंस और लोन अप्रूवल सर्विसेस प्रभावित रहेंगी। लेकिन ATM की सेवाएं जारी रहेंगी। द यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन (UFBU) की तरफ से पूरे देशभर में दो दिन की हड़ताल पब्लिक सेक्टर बैंकों को निजीकरण के हवाले करने और रेट्रोग्रेड बैंकिग रिफॉर्म के विरोध में की जा रही है।

    बता दे प्राइवेट सेक्टर के बैंक खुले रहेंगे जिनमें HDFC बैंक, ICICI बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक और इंडसइंड बैंक शामिल हैं लेकिन देश के कुल बैंक खातों में इनकी हिस्सेदारी करीब एक तिहाई है। बता दे बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपनी विनिवेश योजना के हिस्से के रूप में 2 पब्लिक सेक्टर के बैंकों के निजीकरण की घोषणा की थी। सरकार इसके जरिए 1.75 लाख करोड़ रुपए जुटाना चाहती है। इसी के विरोध में बैंक कर्मचारी 2 दिन की हड़ताल पर हैं।

    बैंक हड़ताल का नेतृत्व करने वाली UFBU संस्था 9 यूनियनों का नेतृत्व करती है। सदस्यों में ऑल इंडिया बैंक एम्प्लाइज एसोसिएशन (AIBEA), ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्फेडरेशन (AIBOC), नेशनल कन्फेडरेशन ऑफ बैंक इम्प्लॉइज (NCBE), ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन (AIBOA), बैंक एंप्लॉइज ऑफ इंडिया (BEFI), भारतीय राष्ट्रीय बैंक कर्मचारी महासंघ (INBEF), भारतीय राष्ट्रीय बैंक अधिकारी कांग्रेस (INBOC), नेशनल बैंक ऑफ बैंक वर्कर्स (NOBW) और नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक ऑफिसर्स (NOBO) शामिल हैं। बताया जा रहा है करीब 10 लाख कर्मचारी हड़ताल पर हैं और बता दे अब तक मोदी सरकार ने चार साल में 14 का विलय कर दिया हैं।